Skip to main content

वास्तानेश्वर महादेव मंदिर सिरोही Vastaneshwar Mahadev Temple Sirohi

वास्तानेश्वर महादेव मंदिर सिरोही Vastaneshwar Mahadev Temple Sirohi

वास्तानेश्वर महादेव मंदिर सिरोही

अमरकोट के राजघराने में जन्मे सोढा राजपूत जोहरसिंह कालान्तर में अर्बन्दाचल (आबू क्षेत्र) के महान तपस्वी संत मुनिजी महाराज के रूप में प्रख्यात हुए। मुनिजी की पुण्यतिथि पौष सुदी 7 को सरूपगंज-कृष्णगंज रोड पर वास्तानेश्वर महादेव मंदिर में समाधि स्थल पर हर साल विशाल मेला आयोजित होता है। इस मेले में आस-पास सहित  दूरदराज के सैकड़ों श्रद्धालु आते हैं। साधु संत भी धूणी रमाते हैं।

मुनिजी महाराज के पूर्व श्रम के बारे में कहा जाता है कि उनका संबंध थारपारकर अमरकोट (हाल पाकिस्तान) के सोढा राजघराने  से था। बहादुरसिंह के दो रानी थीं, मुनिजी की माता का नाम जतन कंवर था। जोहरसिंह का जन्म 1897 में अमरकोट किले में हुआ था। जोहरसिंह के बड़े भाई का नाम जवानसिंह था। मुनिजी के भुआसा मान कंवर का विवाह जोधपुर महाराजा भीमसिंह के साथ 1861 में हुआ था। मानकवर के विधवा होने बाद देवर मानसिंह ने जोधपुर की गही संभाली थी। ऐसा मारवाड़ के इतिहास में लिखा हुआ है।

अकाल के कारण आए आबू

किवदंती है कि मुनिजी महाराज 1925 के लगभग अमरकोट क्षेत्र में भीषण अकाल पड़ने के कारण गायों को चराने आबू की तरफ आए थे। मुनिजी के साथ एक रेबारी भी था जो मूलतः राजस्थान का ही था।

ऐसे उत्पन्न हुआ वैराग्य

यहां आने पर सिरोही के अनादरा गांव के निकट आबू की तलहटी में उनकी आकस्मिक भेट किसी सिद्ध पुरुष महात्मा से हुई। उस महात्मा ने मुनिजी से थोड़े दूध की मांग की तो सहर्ष दे दिया।महात्मा ने दूध की प्रसाव पाने के बाद झोली में से एक फल निकाल कर इन दोनों को दिया ।और अदृश्य हो गए। रेबारी को आबू के अघोरी संतों की जानकारी थी और उसने फल का प्रसाद फेंक दिया लेकिन मुनिजी तेज भूख लगने के कारण रेबारी के मना करने पर भी खा गए। उनको अन्तःकरण में अद्भुत प्रकाश और परम शान्ति का अनुभव होने लगा और वे स्वयं भी दशा समझने में असमर्थ थे। उनके शरीर में नई चेतना और कान्ति आ गई। दिन प्रतिदिन उनकी वृत्ति उदासीनता और वैराग्य की तरह ढलती गई। एक बार पुनः उस महात्मा से मिलने की इच्छा प्रबल होने लगी। मुनिजी रेबारी को यह कहकर कि मैं उस महात्मा को... खोजने के लिए आबू की पहाड़ियों में जा रहा हूँ यदि वापस आता हूं तो ये गाय मुझे वापस देना अन्यथा यह माल तेरा है। काफी समय बाद अमरकोट से मुनिजी महाराज के बड़े भाई जवानसिंह उनकी खोज में आबु की तरफ आए। बहुत भटकने के बाद उनकी मुलाकात इस रैबारी से ही. गई रेबारी ने उन्हें सारी घटना से अवगत करवाया और आशा छोड़कर चले जाने को कहा। मुनिजी की गाय ईमानदारी पूर्वक सौंप दिया। इस घटना के बाद मुनिजी आबू की पहााड़ियो में लंबे समय तक गुम रहे और वापस प्रकट हुए तो एक सिद्ध दशा अवतार में देखने को मिले। तथा उन्हें थारपारकर अमरकोट के सोढा के रूप में किसी ने नहीं पहचाना लेकिन लंबेसमय बाद यह पता चला कि वही सोढ़ा किरदार है। पुराने परिचय के बारे में किसी ने जानने की कोशिश की तो बाबाजी कह देते थे कि ढक परदा रख बाजी। कभी कभी बाबाजी मस्ती में आने पर स्वयं गर्व के साथ बोल देते थे कि यह थारपारकर के सोढा का शरीर है।वे अधिकांश समय मौन रहते थे इसलिए वे इस क्षेत्र में मुनि बाबा के नाम से प्रख्यात हुए । एक समय स्वयं मुनि बाबा ने किसी पत्र पर हस्ताक्षर किए थे जहां अपना नाम शमशेर गिरी लिखा था।

मुनि बाबा के चमत्कार

मुनि बाबा को हिन्दू ग्रन्थों के अलावा कुरान शरीफ का भी अच्छा ज्ञान था। स्वयं मुनि बाबा को खाने-पीने में कोई रुचि नहीं थी पर लोगों को खिला कर एवं अन्न, वस्त्रदान कर बहुत खुश रहते थे। उनकी इच्छा मात्र से बस्ती हो या वीरान पहाड़, साधन सामग्री और उपभोग करने वाले हाजिर हो जाते थे।

Comments

Popular posts from this blog

" पोमचा "- राजस्थान की एक प्रकार की ओढ़नी

"पोमचा" - राजस्थान की एक प्रकार की ओढ़नी राजस्थान में स्त्रियों की ओढ़नियों मे तीन प्रकार की रंगाई होती है- पोमचा, लहरिया और चूंदड़। पोमचा पद्म या कमल से संबद्ध है, अर्थात इसमें कमल के फूल बने होते हैं। यह एक प्रकार की ओढ़नी है।वस्तुतः पोमचा का अर्थ कमल के फूलके अभिप्राय से युक्त ओढ़नी है। यह मुख्यतः दो प्रकार से बनता है- 1. लाल गुलाबी 2. लाल पीला। इसकी जमीन पीली या गुलाबी हो सकती है।इन दोनो ही प्रकारों के पोमचो मेंचारो ओर का किनारा लाल होता है तथा इसमें लाल रंगसे ही गोल फूल बने होते हैं। यह बच्चे के जन्म के अवसर पर पीहर पक्ष की ओरसे बच्चे की मां को दिया जाता है।पुत्र का जन्म होने पर पीला पोमचा तथा पुत्री के जन्म पर लाल पोमचा देने का रिवाज है। पोमचा राजस्थान मेंलोकगीतों का भी विषय है।पुत्र के जन्म के अवसर पर "पीला पोमचा" का उल्लेख गीतों में आता है। एक गीत के बोल इस तरह है-                          "पोमचा" - राजस्थान की एक प्रकार की ओढ़नी " भाभी पाणीड़े गई रे तलाव में, भाभी सुवा तो पंखो बादळ झुकरया जी।      देवरभींजें तो भींजण दो ओदेवर और रंगावे म्हा

World famous sword of Sirohi-विश्व विख्यात सिरोही की तलवार

सिरोही की तलवार को पहचान दिलाने वाले परिवार में सबसे बुजुर्ग प्यारेलाल के हाथों में आज भी वह हुनर मौजूद है जो पीढ़ी दर पीढ़ी उन्हें मिलता रहा और जिसकी बदौलत सिरोहीं की तलवार को देश दुनिया में पहचान मिली | 62 वर्षीय प्यारेलाल कई सालों से तलवारें बना रहे है , लेकिन फिर भी जब भी मौका मिलता है वे तलवार को ढालने लगते है |आज भी लोहे पर ऐसी सटीक चोट करते है की तलवार की धार वैसी ही जैसी कई सालों पहले रहा करती थी |लोग आज भी उन्हें ढूंढते हुए उस गली तक आ पहुचते हैं जहाँ प्यारेलाल तलवार बनाने का काम  करते हैं |पिता की ढलती उम्र और साथ छोड़ते स्वास्थ्य के कारण अहमदाबाद में रहने वाले बेटे ने भी कई बार कहा की आप मेरे साथ चलिए ,लेकिन वे नहीं माने|कहा की जब तक हिम्मत है ये तलवारे बनाता रहूँगा |गौरतलब है की प्यारेलाल इतिहास  की स्वर्णिम पन्नों में दर्ज सिरोही की प्रसिद्ध तलवारे में माहिर परिवार के आखिरी शिल्पकार है |जो रियासत काल से ही तलवार बनाते आ रहे हैं | इस खासियत की वजह से मिली प्रसिधी   सिरोही तलवार की यह खासियत है की आज के मशीनी युग में भी लोहे को गर्म करके सिर्फ हथौड़े की सहायता से तैय

राजस्थान के प्रमुख अनुसंधान केन्द्रो के नाम

1. राष्ट्रीय सरसों अनुसंधान केन्द्र - सेवर जिला भरतपुर 2. केन्द्रीय सूखा क्षेत्र अनुसंधान संस्थान - CAZRI- जोधपुर 3. केन्द्रीय भेड़ एवं ऊन अनुसंधान संस्थान - अविकानगर जिला टौंक 4. केन्द्रीय ऊँट अनुसंधान संस्थान - जोहड़बीड़, बीकानेर 5. अखिल भारतीय खजूर अनुसंधान केन्द्र - बीकानेर 6. राष्ट्रीय मरुबागवानी अनुसंधान केन्द्र - बीकानेर 7. राष्ट्रीय घोड़ा अनुसंधान केन्द्र - बीकानेर 8. सौर वेधशाला - उदयपुर 9. राजस्थान कृषि विपणन अनुसंधान संस्थान - जयपुर 10. केन्द्रीय पशुधन प्रजनन फार्म - सूरतगढ़ जिला गंगानगर 11. राजस्थान राजस्व अनुसंधान एवं प्रशिक्षण संस्थान - अजमेर 12. राजस्थान राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण संस्थान - उदयपुर 13. सुदूर संवेदन केन्द्र - जोधपुर 14. माणिक्यलाल वर्मा आदिम जाति शोध एवं सर्वेक्षण संस्थान - उदयपुर 15. राष्ट्रीय मसाला बीज अनुसंधान केन्द्र - अजमेर 16. राष्ट्रीय आयुर्वेद शोध संस्थान - जयपुर 17. केन्द्रीय इलेक्ट्रॉनिक इंजीनियरिंग शोध संस्थान (सीरी) - पिलानी 18. अरबी फारसी शोध संस्थान - टौंक 19. राजकीय शूकर फार्म - अलवर 20. केन्द्र