Skip to main content

राजस्थान RSSB पटवार सीधी भर्ती परीक्षा 2019 विस्तृत पाठ्यक्रम (Rajasthan Patwar Exam 2019 syllabus)

राजस्थान RSSB पटवार सीधी भर्ती परीक्षा 2019 विस्तृत पाठ्यक्रम (Rajasthan Patwar Exam 2019 syllabus)

Rajasthan Patwar Exam 2019 syllabus

1. General Science: History, polity and geography of India; General knowledge, current affairs 

• विज्ञान के सामान्य आधारभूत तत्व एवं दैनिक विज्ञान, मानव शरीर, आहार एवं पोषण, स्वास्थ्य देखभाल
• प्राचीन एवं मध्यकालीन भारत के इतिहास की प्रमुख विशेषताएँ एवं महत्वपूर्ण ऐतिहासिक (6वीं शताब्दी के मध्य से वर्तमान तक) घटनाएं
• भारतीय संविधान, राजनीतिक व्यवस्था एवं शासन प्रणाली, संवैधानिक विकास
• भारत की भौगोलिक विशेषताएं, पर्यावरणीय एवं पारिस्थितिकीय परिवर्तन एवं इनके प्रभाव
• समसामयिक राष्ट्रीय घटनायें

2. Geography, History, culture and polity of Rajasthan 

• राजस्थान के इतिहास की महत्वपूर्ण ऐतिहासिक घटनाएँ,
• राजस्थान की प्रशासनिक व्यवस्था राज्यपाल, राज्य विधान सभा, उच्च न्यायालय, राजस्थान लोक सेवा आयोग, जिला प्रशासन, राज्य मानवाधिकार आयोग, राज्य निर्वाचन आयोग, लोकायुक्त, राज्य
• सूचना आयोग, लोक नीति
• सामाजिक-सांस्कृतिक मुद्दे।
• स्वतन्त्रता आन्दोलन जन-जागरण एवं राजनीतिक एकीकरण।
• लोक कलाएँ, चित्रकलाएँ और हरतशिल्प एवं स्थापत्य ।
• मेले, त्यौहार, लोकसगीत एवं लोकनृत्य ।
• राजस्थानी संस्कृति एवं विरासत, साहित्य।
• राजस्थान के धार्मिक आन्दोलन, रान्त एवं लोकदेवता।
• महत्वपूर्ण पर्यटन स्थल। राजस्थान के प्रमुख व्यक्तित्व।

3. General English & Hindi

(i) सामान्य हिन्दी:

• दिये गये शब्दों की संधि एवं शब्दों का संधि-विच्छेद।
• उपसर्ग एवं प्रत्यय इनके संयोग से शब्द-संरचना तथा शब्दों से उपसर्ग एवं प्रत्यय को पृथक करना, इनकी पहचान।
• समस्त (सामासिक) पद की रचना करना, समस्त (सामासिक) पद का विग्रह करना।
• शब्द युग्मों का अर्थ भेद। 
• पर्यायवाची शब्द और विलोम शब्द।
• शब्द शुद्धि-दिये गये अशुद्ध शब्दों को शुद्ध लिखना।
• वाक्य शुद्धि -वर्तनी संबंधी अशुद्धियों को छोड़कर वाक्य संबंधी अन्य व्याकरणीय अशुद्धियो का शुद्धीकरण।
• वाक्यांश के लिये एक उपयुक्त शब्द
• पारिभाषिक शब्दावली-प्रशासन से सम्बन्धित अंग्रेजी शब्दों के समकक्ष हिन्दी शब्द । 
• मुहावरे एवं लोकोक्ति

(ii) General English

• Comprehension of unseen passage.
• Correction of common errors: correct usage.
• Synonym/ antonym.
• Phrases and idioms.

4. Mental ability and reasoning, Basic Numerical efficiency

• Making series/analogy.
• Figure matrix questions, Classification, Alphabet test.
• Passage and conclusions,
• Blood relations.
• Coding-decoding. Direction sense test.
• Sitting arrangement.
• Input output. 
• Number Ranking and Time Square.
• Making judgments.
• Logical arrangement of words.
• Inserting the missing character/number.
• Mathematical operations, average, ratio. Area and volume.
• Percent.
• Simple and compound interest. 
• Unitary Method.
• Profit & Loss.

5. Basic Computer

• Characteristics of Computers.
• Computer Organization including RAM, ROM, File System, Input Devices, Computer Software- Relationship between Hardware & Software.
• Operating System
•MS-Office (Exposure of word, Excel/Spread Sheet, Power Point)

Comments

Popular posts from this blog

World famous sword of Sirohi-विश्व विख्यात सिरोही की तलवार

सिरोही की तलवार को पहचान दिलाने वाले परिवार में सबसे बुजुर्ग प्यारेलाल के हाथों में आज भी वह हुनर मौजूद है जो पीढ़ी दर पीढ़ी उन्हें मिलता रहा और जिसकी बदौलत सिरोहीं की तलवार को देश दुनिया में पहचान मिली | 62 वर्षीय प्यारेलाल कई सालों से तलवारें बना रहे है , लेकिन फिर भी जब भी मौका मिलता है वे तलवार को ढालने लगते है |आज भी लोहे पर ऐसी सटीक चोट करते है की तलवार की धार वैसी ही जैसी कई सालों पहले रहा करती थी |लोग आज भी उन्हें ढूंढते हुए उस गली तक आ पहुचते हैं जहाँ प्यारेलाल तलवार बनाने का काम  करते हैं |पिता की ढलती उम्र और साथ छोड़ते स्वास्थ्य के कारण अहमदाबाद में रहने वाले बेटे ने भी कई बार कहा की आप मेरे साथ चलिए ,लेकिन वे नहीं माने|कहा की जब तक हिम्मत है ये तलवारे बनाता रहूँगा |गौरतलब है की प्यारेलाल इतिहास  की स्वर्णिम पन्नों में दर्ज सिरोही की प्रसिद्ध तलवारे में माहिर परिवार के आखिरी शिल्पकार है |जो रियासत काल से ही तलवार बनाते आ रहे हैं | इस खासियत की वजह से मिली प्रसिधी   सिरोही तलवार की यह खासियत है की आज के मशीनी युग में भी लोहे को गर्म करके सिर्फ हथौड़े की सहायता से तैय

" पोमचा "- राजस्थान की एक प्रकार की ओढ़नी

"पोमचा" - राजस्थान की एक प्रकार की ओढ़नी राजस्थान में स्त्रियों की ओढ़नियों मे तीन प्रकार की रंगाई होती है- पोमचा, लहरिया और चूंदड़। पोमचा पद्म या कमल से संबद्ध है, अर्थात इसमें कमल के फूल बने होते हैं। यह एक प्रकार की ओढ़नी है।वस्तुतः पोमचा का अर्थ कमल के फूलके अभिप्राय से युक्त ओढ़नी है। यह मुख्यतः दो प्रकार से बनता है- 1. लाल गुलाबी 2. लाल पीला। इसकी जमीन पीली या गुलाबी हो सकती है।इन दोनो ही प्रकारों के पोमचो मेंचारो ओर का किनारा लाल होता है तथा इसमें लाल रंगसे ही गोल फूल बने होते हैं। यह बच्चे के जन्म के अवसर पर पीहर पक्ष की ओरसे बच्चे की मां को दिया जाता है।पुत्र का जन्म होने पर पीला पोमचा तथा पुत्री के जन्म पर लाल पोमचा देने का रिवाज है। पोमचा राजस्थान मेंलोकगीतों का भी विषय है।पुत्र के जन्म के अवसर पर "पीला पोमचा" का उल्लेख गीतों में आता है। एक गीत के बोल इस तरह है-                          "पोमचा" - राजस्थान की एक प्रकार की ओढ़नी " भाभी पाणीड़े गई रे तलाव में, भाभी सुवा तो पंखो बादळ झुकरया जी।      देवरभींजें तो भींजण दो ओदेवर और रंगावे म्हा

राजस्थान के प्रमुख अनुसंधान केन्द्रो के नाम

1. राष्ट्रीय सरसों अनुसंधान केन्द्र - सेवर जिला भरतपुर 2. केन्द्रीय सूखा क्षेत्र अनुसंधान संस्थान - CAZRI- जोधपुर 3. केन्द्रीय भेड़ एवं ऊन अनुसंधान संस्थान - अविकानगर जिला टौंक 4. केन्द्रीय ऊँट अनुसंधान संस्थान - जोहड़बीड़, बीकानेर 5. अखिल भारतीय खजूर अनुसंधान केन्द्र - बीकानेर 6. राष्ट्रीय मरुबागवानी अनुसंधान केन्द्र - बीकानेर 7. राष्ट्रीय घोड़ा अनुसंधान केन्द्र - बीकानेर 8. सौर वेधशाला - उदयपुर 9. राजस्थान कृषि विपणन अनुसंधान संस्थान - जयपुर 10. केन्द्रीय पशुधन प्रजनन फार्म - सूरतगढ़ जिला गंगानगर 11. राजस्थान राजस्व अनुसंधान एवं प्रशिक्षण संस्थान - अजमेर 12. राजस्थान राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण संस्थान - उदयपुर 13. सुदूर संवेदन केन्द्र - जोधपुर 14. माणिक्यलाल वर्मा आदिम जाति शोध एवं सर्वेक्षण संस्थान - उदयपुर 15. राष्ट्रीय मसाला बीज अनुसंधान केन्द्र - अजमेर 16. राष्ट्रीय आयुर्वेद शोध संस्थान - जयपुर 17. केन्द्रीय इलेक्ट्रॉनिक इंजीनियरिंग शोध संस्थान (सीरी) - पिलानी 18. अरबी फारसी शोध संस्थान - टौंक 19. राजकीय शूकर फार्म - अलवर 20. केन्द्र