• कठपुतली चित्र

    राजस्थानी कठपुतली नृत्य कला प्रदर्शन

Monday, October 19, 2020

रणथंभौर का किला (RANTHAMBHOUR FORT)

रणथंभौर का किला (RANTHAMBHOUR FORT)

▶ 'गिरी दुर्ग' रणथंभौर हमीर की आन बान शान के लिए प्रसिद्ध है। सवाई माधोपुर से 10 किलोमीटर दूर अरावली पर्वत श्रृंखलाओं से घिरा हुआ रणथंभौर का किला विषम आकृति वाली ऊंची नीची  सात पर्वत श्रेणियों के मध्य स्थित है जिनके बीच में गहरी खाईया और नाले हैं ।
▶ यह किला यद्यपि एक ऊंचे पर्वत शिखर पर स्थित है मगर समीप जाने पर ही दिखाई देता है। रणथंभौर दुर्ग के निर्माण और निर्माताओं के संबंध में प्रमाणिक जानकारी अभी तक नहीं मिल सकी है ।इतिहासकारों का मानना है कि इस किले का निर्माण आठवीं शताब्दी में चौहान शासकों द्वारा करवाया गया ।
▶ किला समुद्र तल से 481 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है तथा 12 किलोमीटर की परिधि में विस्तृत है। उसके तीन तरफ गहरी खाई है ,खाईया के साथ परकोटा फिर ढलवा जमीन और दुर्गम वन है । 
▶इसकी प्राचीर पहाड़ियों के साथ एकाकार से लगती है दुर्गम भौगोलिक  स्थिति के कारण ही अबुल फजल ने लिखा है 'और दुर्गे नंगे है परंतु यह बख्तरबंद है'। 
▶ रणथंभौर का वास्तविक नाम रन्त:पुर है अर्थात रण की घाटी में स्थित नगर ।रण  उस पहाड़ी का नाम है जो किले की पहाड़ी से कुछ नीचे है एवं थंभ उसका जिस पर यह किला बना है इसी से इसका का नाम रणस्तंभपुर हो गया जो कालांतर में रणथंभौर के नाम से जाना जाता है।
▶ तराइन के द्वितीय युद्ध के बाद पृथ्वीराज चौहान तृतीय का पुत्र गोविंदराज सामंत शासक के रूप में रणथंभौर की गद्दी पर बैठा । तत्पश्चात ऐबक, इल्तुतमिश ,बलबन इस किले पर अधिकार रखने में सफल रहे। 1282 -1301 ईस्वी में हम्मीर देव चौहान यहाँ का शासक था उस समय जलालुद्दीन खिलजी ने 1292 ई. में रणथभौर पर आक्रमण किया लेकिन उसे सफलता नहीं मिली तब खिसियाकर उसने कहा "ऐसे 100 किलो को भी वह मुसलमान के एक बाल के बराबर भी नहीं मानता है" 
▶ 1301 ई. में हमीर के मंत्रियों के विश्वासघात के कारण अलाउद्दीन खिलजी किले पर अधिकार करने में सफल रहा। इस समय हम्मीर की पत्नी रंग देवी और पुत्री देवल दे के नेतृत्व में किले में जोहर हुआ जो रणथंबोर का पहला शाखा कहलाता है।
▶ राणा कुंभा, राणा सांगा का भी इस किले पर आधिपत्य रहा ।1534 ईसवी में मेवाड़ ने इसे गुजरात के शासक बहादुरशाह को सौंप दिया ।1542 ई. में यह शेरशाह सूरी एवं उसके बाद सुर्जन हाडा के अधिकार में रहा। 1569 ईसवी में रणथंबोर पर मुगल आधिपत्य स्थापित हो गया ।अकबर ने यहां शाही टकसाल स्थापित की। मुगल काल में शाही कारागार के रूप में भी इसका उपयोग किया गया ।मुगलों के पराभव काल में जयपुर महाराजा माधो सिंह ने किले पर अधिकार कर लिया। 1947 तक यह जयपुर के आधिपत्य में ही रहा ।

▶ नौलखा दरवाजा, हाथीपोल, गणेशपोल, सूरजपोल और त्रिपोलिया पोल किले के प्रमुख प्रवेश द्वार है। किले की प्रमुख इमारतों में हम्मीर महल, रानीमहल, हम्मीर की कचहरी ,सुपारी महल ,बादल महल, 32 खंभों की छतरी ,जौरा भौरा,रानिहाड तालाब, पीर सदरुद्दीन की दरगाह, लक्ष्मी नारायण मंदिर है। किले के पार्श्व में पद्मला तालाब स्थित है ।भारत प्रसिद्ध त्रिनेत्र गणेश जी का मंदिर इसी किले में स्थित है।
Share:

Sunday, October 18, 2020

तारागढ़ का किला ,अजमेर (TARAGARH FORT AJMER)

तारागढ़ का किला ,अजमेर (TARAGARH FORT AJMER)

राजस्थान का जिब्राल्टर

TARAGARH AJMER
तारागढ़ का किला ,अजमेर

▶गढ़ बिठली , अजयमेरु और तारागढ़ के नाम से विख्यात किला अरावली पर्वतमाला के  शिखर पर निर्मित है । कर्नल टॉड के अनुसार अजमेर नगर के संस्थापक अजय राज(1105-33 ई.) ने इस किले का निर्माण करवाया । 

▶गोपीनाथ शर्मा का मानना है कि राणा सांगा के भाई कुंवर पृथ्वीराज में इस किले के कुछ भागों का निर्माण करवाया | और अपनी पत्नी तारा के नाम पर इसका नाम तारागढ़ रखा । 

▶ गढ़ बिठली के बारे में कहा जाता है कि बिठली उस पहाड़ी का नाम है जिस पर दुर्ग बना हुआ है| गढ़ बिठली नाम के संबंध में एक अन्य मत यह है कि मुगल बादशाह शाहजहां के शासनकाल में विट्ठलदास गौड यहां का दुर्गाध्यक्ष जिसने इस दुर्ग का निर्माण करवाया और उसी के नाम पर इस किले का नाम गढ़ बिठली पड़ा| 

▶ यह किला समुद्र तल से 2855 फीट ऊंची पहाड़ी पर बना हुआ है और 80 एकड़ परिधि में फैला हुआ है| पर्वत शिखरों के साथ मिली हुई ऊंची प्राचीर, सुदृढ़, और विशालकाय बुर्ज तथा सघन वन इसे सुरक्षा प्रदान करते हैं। हरीविलास शारदा ने इसे भारत का प्राचीनतम गिरी दुर्ग माना है| हरविलास शारदा के  अनुसार राजस्थान के समस्त किलो में सर्वाधिक आक्रमण तारागढ़ पर हुए हैं|

▶ राजपूताना के मध्य में स्थित होने के कारण इस दुर्ग का विशेष सामरिक महत्व रहा है इसीलिए महमूद गजनवी से लेकर अंग्रेजों के नियंत्रण में आने तक इसे अनेक आक्रमणों का सामना करना पड़ा | 

▶ राव मालदेव ने तारागढ़ का जीर्णोधार करवाया तथा किले में पानी पहुंचाने के लिए एक रहट का निर्माण भी करवाया| मालदेव कि पत्नी रूठी रानी(उमादे) ने  तारागढ़ को अपना निवास बनाया था| गवर्नर जनरल लॉर्ड विलियम बेंटिक में 1832 ईस्वी में संभावित उपद्रव की आशंका से इस किले की प्राचीर और अन्य भाग तुड़वाकर इस  किले का सामरिक महत्व समाप्त कर दिया था|

▶ तारागढ़ की प्राचीर में 14 विशाल  बुर्जे - घुंघट ,गुगडी, फूटी, नक्कारची, श्रृंगार-चंवरी,आर-पार का अत्ता ,जानु-नायक,पिपली ,इब्राहीम शहीद,दोराइ,बांदरा, इमली, खिड़की और फ़तेह बुर्ज है| नाना साहब का झालरा ,गोल झालरा , इब्राहीम का झालरा  आदि किले के भीतर जलाश्यो  के नाम है | तारागढ़ में मुस्लिम संत मीरा साहिब की दरगाह स्थित है| 

▶बिशप हेबर ने इस किले के बारे में लिखा है " यदि यूरोपीय तकनीक से इसका जीर्णोद्धार करवाया जाए तो यह दूसरा जिब्राल्टर बन सकता है| इसे राजस्थान का जिब्राल्टर भी कहा जाता है|

Share:

SEARCH MORE HERE

Labels

CHITTAURGARH FORT RAJASTHAN (1) Competitive exam (1) Current Gk (1) Exam Syllabus (1) HISTORY (3) NPS (1) RAJASTHAN ALL DISTRICT TOUR (1) Rajasthan current gk (1) Rajasthan G.K. Question Answer (1) Rajasthan Gk (5) Rajasthan tourism (1) RSCIT प्रश्न बैंक (3) World geography (2) उद्योग एवं व्यापार (2) कम्प्यूटर ज्ञान (2) किसान आन्दोलन (1) जनकल्याणकारी योजनाए (9) परीक्षा मार्गदर्शन प्रश्नोत्तरी (10) पशुधन (5) प्रजामण्डल आन्दोलन (2) भारत का भूगोल (4) भारतीय संविधान (1) भाषा एवं बोलिया (2) माध्यमिक शिक्षा बोर्ड राजस्थान अजमेर (BSER) (1) मारवाड़ी रास्थानी गीत (14) मेरी कलम से (3) राजस्थान का एकीकरण (1) राजस्थान का भूगोल (3) राजस्थान की कला (3) राजस्थान की छतरियाॅ एवं स्मारक (1) राजस्थान की नदियाँ (1) राजस्थान की विरासत (4) राजस्थान के किले (8) राजस्थान के जनजाति आन्दोलन (1) राजस्थान के प्रमुख अनुसंधान केन्द्र (2) राजस्थान के प्रमुख तीर्थ स्थल (12) राजस्थान के प्रमुख दर्शनीय स्थल (3) राजस्थान के मेले एवं तीज त्योहार (7) राजस्थान के राजकीय प्रतीक (2) राजस्थान के रिति रिवाज एवं प्रथाए (1) राजस्थान के लोक देवी-देवता (5) राजस्थान के लोक नृत्य एवं लोक नाट्य (1) राजस्थान के लोक वाद्य यंत्र (4) राजस्थान के शूरवीर क्रान्तिकारी एवं महान व्यक्तित्व (6) राजस्थान विधानसभा (1) राजस्थान: एक सिंहावलोकन (4) राजस्थानी कविता एवं संगीत (6) राजस्थानी संगीत लिरिक्स (RAJASTHANI SONGS LYRICS) (17) वस्त्र परिधान एवं आभूषण (2) विकासकारी योजनाए (9) विज्ञान (1) विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी (2) वीणा राजस्थानी गीत (15) संत सम्प्रदाय (2) सामान्यज्ञान (2) साहित्य (3)

PLEASE ENTER YOUR EMAIL FOR LATEST UPDATES

इस ब्लॉग की नई पोस्टें अपने ईमेल में प्राप्त करने हेतु अपना ईमेल पता नीचे भरें:

पता भरने के बाद आपके ईमेल मे प्राप्त लिंक से इसे वेरिफाई अवश्य करे।