• कठपुतली चित्र

    राजस्थानी कठपुतली नृत्य कला प्रदर्शन

Thursday, January 27, 2022

Rajasthan Gk Topic Wise

Share:

Thursday, January 20, 2022

श्री भुवनेश्वर महादेव मंदिर डोडुआ सिरोही (shri bhuvneshwar mahadev temple dodua sirohi)

श्री भुवनेश्वर महादेव मंदिर डोडुआ सिरोही (shri bhuvneshwar mahadev temple dodua sirohi)

◆ सिरोही से 12 किलोमीटर दूर डोडूआ गांव के इस मंदिर मे लोगों की अपार आस्था है ।  
◆ ये मंदिर जितना प्राचीन है उतना ही चमत्कारी भी है। पुजारी जी के अनुसार मंदिर कई सौ साल ( 800 साल ) पुराना है ।
◆ यहां स्वयंभू लिंग है, अनेक संतो की तपस्या का यहां इतिहास है। यहां श्री शंभूगिरी जी महाराज और श्री चेतनगिरी जी महाराज की जीवित समाधियां है। नागा बाबा संत चमनपुरी जी ने भी यहां तप किया था, उनकी भी यहाँ समाधि है। 
◆ मंदिर के अंतर्गत सैकड़ों बीघा का विशाल ओरण (लगभग 300 बीघा का ) है जहाँ सैकड़ों सालों से पशुधन, गौवंश और जंगली जानवरों भरणपोषण होता आया है।
◆ मंदिर के विशाल प्रवेश द्वार, बडे बडे भवन, प्राचीन बावड़ी, विशाल परकोटा और मंदिर का भवन किसी महल से कम नही है ।
◆ श्री भुवनेश्वर महादेव सबका भरणपोषण करने वाले है। । यहां आध्यात्मिक उर्जा का प्रवाह निरंतर बहता है और आने वाले भक्तों को यहां शांति मिलती है ।
◆ महाशिवरात्रि के दिन, श्रावण मास में या सोमवार को यहां मेला जैसा माहौल रहता है ।
Share:

Tuesday, January 18, 2022

राजस्थान रोडवेज के फ्री पास/स्मार्ट कार्ट ऑनलाइन घर बैठे कैसे बनाये (How to make Rajasthan Roadways Free Pass / Smart Cart Online at home)

राजस्थान रोडवेज के फ्री पास/स्मार्ट कार्ट ऑनलाइन घर बैठे कैसे बनाये (How to make Rajasthan Roadways Free Pass / Smart Cart Online at home)

● राजस्थान राज्य पथ परिवहन निगम RSRTC ने निशुल्क व रियायती यात्रा सुविधा के लिए 41 श्रेणी के व्यक्तियों के आरएफआईडी स्मार्ट कार्ड का रजिस्ट्रेशन ऑनलाइन कर दिया है
● अब आवेदक कार्ड बनवाने के लिए ई-मित्र के जरिए या स्वयं कहीं से भी रजिस्ट्रेशन कर सकेंगे।
●पात्र व्यक्ति ऑनलाइन पास बनवाने के लिए  पोर्टल लिंक  https://rsrtcrfidsystem.co.in/SelfService/SelfLogin.aspx   पर जाए।

● उसके बाद apply for new REID Smart Card पर क्लिक करे।
● उसके बाद एक पेज खुलेगा जिसमे आधार या जनाधार नंबर, नाम, पिता का नाम, लिंग, जन्मतिथि, मोबाइल नंबर, ईमेल ,एड्रेस और जिस माध्यम से पास प्राप्त करना है वो माध्यम सिलेक्ट करे। एवं नेक्स्ट बटन पर क्लिक करे।
● उसके बाद एप्लिकेंट का फोटो अपलोड करे।नेक्स्ट बटन पर क्लिक करे।
●  इसके बाद बस टाइप सेलेक्ट करे।
● बस टाइप सेलेक्ट करने के बाद concession code और पास पीरियड सेलेक्ट करे तथा नेक्स्ट बटन पर क्लिक करे।
● उसके बाद फ़ोटो आईडी प्रूफ , concession applicable document प्रूफ, एड्रेस प्रूफ अपलोड करें।तथा register पर क्लिक करे। इसके बाद फॉर्म विभाग के पास डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन के लिए चला जायेगा ।डॉक्यूमेंट वेरीफाई होने पर पास जारी कर दिया जाएगा। 
Share:

Monday, January 17, 2022

राजस्थान में दिव्यांगजन को पदोन्नति में 4 प्रतिशत आरक्षण (Four percent reservation in promotion for Specially Abled persons)

राजस्थान में दिव्यांगजन को पदोन्नति में 4 प्रतिशत आरक्षण मुख्यमंत्री ने किया परिपत्र का अनुमोदन (Four percent reservation in promotion for Specially Abled persons)

◆ मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत ने राज्य सरकार की सीधी भर्तियों के साथ ही पदोन्नतियों में भी दिव्यांगजन को 4 प्रतिशत आरक्षण दिए जाने का महत्वपूर्ण निर्णय किया है। साथ ही, दिव्यांगजनों को सीधी भर्ती में ऊपरी आयु सीमा एवं न्यूनतम अंकों में छूट का भी लाभ दिए जाने का प्रावधान किया गया है। 
◆ श्री गहलोत ने इनकी प्रभावी पालना के लिए परिपत्र का अनुमोदन भी कर दिया है। मुख्यमंत्री के इस निर्णय से दिव्यांगजनों को राजकीय सेवाओं में भर्ती एवं पदोन्नति के बेहतर अवसर उपलब्ध हो सकेंगे।
◆ श्री गहलोत ने दिव्यांगजन आरक्षण के प्रावधानों की पालना के लिए प्रत्येक विभाग में नोडल अधिकारी नियुक्त करने के भी निर्देश दिए हैं। 
◆ इस संबंध में उन्होंने राज्य में राजस्थान दिव्यांगजन अधिकार नियम (संशोधित) - 2021 के प्रभावी बैंक विभाग द्वार क्रियान्वयन के लिए कार्मिक विभाग द्वारा सभी विभागों को जारी किए जाने वाले परिपत्र का अनुमोदन किया है। पदोन्नति में आरक्षण की पालना सुनिश्चित करने के लिए कार्मिक विभाग द्वारा निर्देश जारी किए जा रहे हैं।
◆ उल्लेखनीय है कि उत्तरप्रदेश, हरियाणा, पंजाब और छत्तीसगढ़ जैसे राज्यों के बाद विशेष योग्यजनों को पदोन्नति में आरक्षण का प्रावधान करने वाला राजस्थान अग्रणी राज्य है।
◆ सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग ने हाल ही में राजस्थान दिव्यांगजन अधिकार नियम (संशोधित) - 2021 की अधिसूचना जारी की है।
◆ इस अधिसूचना के तहत कार्मिक विभाग ने सभी विभागों में दिव्यांगजनों को सीधी भर्ती एवं पदोन्नतियों में दिए जाने वाला आरक्षण, ऊपरी आयु सीमा में छूट एवं अंकों में रियायत संबंधी प्रावधानों की पालना के संबंध में दिशा-निर्देश जारी किये हैं। 
◆ इसके तहत नोडल अधिकारी द्वारा संबंधित विभाग के सभी सेवा संवर्गों में दिव्यांगजनों को देय आरक्षण प्रावधानों की पालना सुनिश्चित कराई जाएगी। 
◆ इसके लिए रोस्टर पंजिका के संधारण के साथ ही नोडल अधिकारी द्वारा विभागाध्यक्ष को प्रतिवर्ष पालना रिपोर्ट भी प्रस्तुत करनी होगी।
Share:

Saturday, October 9, 2021

अब ऑनलाइन बनेंगे राजस्थान रोडवेज में फ्री और रियायती यात्रा के स्मार्ट कार्ड (RSRTC SMART CARD)

ऑनलाइन बनेंगे राजस्थान रोडवेज में फ्री और रियायती यात्रा के स्मार्ट कार्ड- 
● राजस्थान राज्य पथ परिवहन निगम RSRTC ने निशुल्क व रियायती यात्रा सुविधा के लिए 41 श्रेणी के व्यक्तियों के आरएफआईडी स्मार्ट कार्ड का रजिस्ट्रेशन ऑनलाइन कर दिया है। 
● अब आवेदक कार्ड बनवाने के लिए ई-मित्र के जरिए कहीं से भी रजिस्ट्रेशन कर सकेंगे।
● पात्र व्यक्ति ऑनलाइन पोर्टल https://rsrtcrfidsystem.co.in/SelfService/SelfLogin.aspx  पर रजिस्ट्रेशन कर पात्रता के आधार पर सम्बन्धित दस्तावेजों (फोटो, पात्रता सम्बन्धी दस्तावेज, जन्म/ आयु सम्बन्धी प्रमाण पत्र, राजस्थान मूल निवास से सम्बन्धी प्रमाण पत्र) को अपलोड कर पेमेंट गेटवे के माध्यम से भुगतान कर सकेंगे। 
● कार्ड आगार कार्यालय से प्राप्त करने पर 40 रु. और स्वयं के पते पर डिलीवरी पर पोस्टल चार्जेज 75 रु. अतिरिक्त देने होंगे। 
● प्रार्थना पत्र का सत्यापन आगार स्तर पर होगा। रजिस्ट्रेशन से सम्बन्धित जानकारी रोडवेज की वेबसाइट www.rsrtc.rajasthan.gov.in/rsrte पर उपलब्ध है।
● इससे पूर्व वर्ष 2013 से आरएफआईडी स्मार्ट कार्ड रोडवेज के काउंटर्स पर रजिस्ट्रेशन कर बनाए जा रहे थे।

Share:

Thursday, September 16, 2021

कुम्भश्याम का मन्दिर चित्तौड़गढ़ (KUMBHSHYAM MANDIR CHITTORGARH RAJASTHAN)

कुम्भश्याम का मन्दिर चित्तौड़गढ़

सतबीस देवरी से एक छोटी सड़क दक्षिण-पश्चिम की और विजयस्तम्भ को जाती है। इसी सड़क पर विष्णु के वराह-अवतार व कुम्भश्याम का भव्य मन्दिर है। इसका निर्माण महाराण कृष्णा ने सन् 1449 ई में करवाया था। वराह-मन्दिर के सम्मुख एक ऊंची छतरी में 'गरुड़' की मूर्ति स्थापित है। गगनचुम्बी शिखर, विशाल कलात्मक मण्डप व प्रदक्षिणा वाला यह मन्दिर इण्डोआर्यन स्थापत्य कला का एक सुन्दर नमूना है। इस मन्दिर की भीतरी परिक्रमा के पिछले ताक में विष्णु के वराह अवतार को अंकित करने वाली मूर्ति है तथा बाह्य ताकों में त्रिविक्रम तथा शिव-पार्वती का स्थानकावस्था में सुन्दर अंकन प्राप्त होता है ।

दुर्ग स्थित कुम्भश्याम का मन्दिर महाराण कुम्भा द्वारा निर्मित 'कुम्भास्वामी' नामक तीन विष्णु मन्दिर में से एक हैं। इसी प्रकार के दो और मन्दिर कुम्भलगढ़ तथा अचलगढ़ में बने हैं। ये सभी मन्दिर प्रस्तर के हैं जिनमें प्राय: भूरे रंग के बलुहा पत्थर का प्रयोग हुआ है। ये सभी मन्दिर उच्च शिखरों से अंलकृत तथा ऊँची प्रासादपीठ पर अवस्थित हैं। इसके गर्भगृह के द्वार-खण्डों, मण्डप की छतों एवं स्तम्भों पर सुन्दर मूर्तियों तथा कला के अन्य शुभ प्रतीकों का सुन्दर अंकन हुआ है। बाह्य भाग में मोहक कलाकृतियों के अलावा प्रधान ताकों में विष्णु के विविध रूपों को अंकित करने वाली भव्य मूर्तियां हैं तो तत्कालीन कला -समृद्धि की परिचायक हैं।
'कुम्भश्याम' का मन्दिर देव मूर्तियों की दृष्टि से तो महत्वपूर्ण है ही, साथ ही इसमें अंकित अन्य दृश्यों से पन्द्रहवीं शती के मेवाड़ के जनजीवन की झांकी भी प्राप्त होती है। उनके अध्ययन से तत्कालीन वेशभूषा, अलंकरण, केश-प्रसाधन, वाद्ययन्त्रों, शस्त्रास्त्र आदि पर पर्याप्त प्रकाश पड़ता है।

इसी मन्दिर के अहाते में एक और मन्दिर मीरां मन्दिर' के नाम से प्रसिद्ध है। इसके सामने मीरां के गुरू रैदास का स्मारक' छतरी के रूप में बना है ।मीरा के निज- मन्दिर के भाग में मुरली बजाते हुए श्रीकृष्ण तथा भक्ति में लीन भजन गाती हुई मीरा का चित्र लगा है
Share:

Wednesday, July 21, 2021

कमायचा तत लोक वाद्ययंत्र( "KAMAYACHA" LOK VADHYA YANTRA)

● यह सारंगी के समान वाद्य है, जिसकी बनावट में सारंगी से भिन्नता होती है। सारंगी की तबली लम्बी होती है किन्तु इसकी गोल व लगभग डेढ़ फुट चौड़ी होती है। 

● तबली पर चमड़ा मढ़ा रहता है। तबली की चौड़ाई व गोलाई के कारण इसकी ध्वनि में भारीपन व गूँज होती है।
● इसे बजाने का गज भी सारंगी के गज से लगभग डेढ़ा होता । 
● इसमें तीन मुख्य तार लगे होते हैं जो पशुओं की आंत के होते हैं। साथ ही चार से सात सहायक तार स्टील के तार ब्रिज के ऊपर लगे होते हैं।

● कई कमायचा ऐसे भी होते है जिनमे 27 तार लगे होते हैं। अलग अलग कमायचो में तारो की संख्या में भिन्नता देखी जा सकती है।
● तरबों की खूँटियाँ सब ऊपर की ओर होती हैं। इसकी ऊपरी आकृति बहुत कुछ मराठी सारंगी से मिलती है।
● इसमें एक ओर गुजरातण सारंगी की भाँति केवल सात तरबें होती हैं जो सा से नि तक के स्वरों में मिली रहती हैं।
● कामायचा के मुख्य तार तांत के होते हैं। इसकी तरबों का प्रयोग गज संचालन के साथ किया जाता  है। इसलिए वे घुड़च के ठीक ऊपर से निकाली जाती हैं। 
● इनसे वाद्य की ध्वनि अत्यन्त प्रखर हो जाती है। इस वाद्य का प्रयोग मुस्लिम शेख करते हैं जिन्हें मांगणियार भी कहा जाता है।
● नाथ पंथ के साधु भी भर्तृहरि व गोपीचंद की कथा के गीत कामायचा वाद्य यंत्र के साथ गाते है।
Share:

SEARCH MORE HERE

Labels

CHITTAURGARH FORT RAJASTHAN (1) Competitive exam (1) Current Gk (1) Exam Syllabus (1) HISTORY (3) NPS (1) RAJASTHAN ALL DISTRICT TOUR (1) Rajasthan current gk (1) Rajasthan G.K. Question Answer (1) Rajasthan Gk (6) Rajasthan tourism (1) RSCIT प्रश्न बैंक (3) World geography (2) उद्योग एवं व्यापार (2) कम्प्यूटर ज्ञान (2) किसान आन्दोलन (1) जनकल्याणकारी योजनाए (9) परीक्षा मार्गदर्शन प्रश्नोत्तरी (10) पशुधन (5) प्रजामण्डल आन्दोलन (2) भारत का भूगोल (4) भारतीय संविधान (1) भाषा एवं बोलिया (2) माध्यमिक शिक्षा बोर्ड राजस्थान अजमेर (BSER) (1) मारवाड़ी रास्थानी गीत (14) मेरी कलम से (3) राजस्थान का एकीकरण (1) राजस्थान का भूगोल (3) राजस्थान की कला (3) राजस्थान की छतरियाॅ एवं स्मारक (1) राजस्थान की नदियाँ (1) राजस्थान की विरासत (4) राजस्थान के किले (8) राजस्थान के जनजाति आन्दोलन (1) राजस्थान के प्रमुख अनुसंधान केन्द्र (2) राजस्थान के प्रमुख तीर्थ स्थल (13) राजस्थान के प्रमुख दर्शनीय स्थल (4) राजस्थान के मेले एवं तीज त्योहार (7) राजस्थान के राजकीय प्रतीक (2) राजस्थान के रिति रिवाज एवं प्रथाए (1) राजस्थान के लोक देवी-देवता (5) राजस्थान के लोक नृत्य एवं लोक नाट्य (1) राजस्थान के लोक वाद्य यंत्र (4) राजस्थान के शूरवीर क्रान्तिकारी एवं महान व्यक्तित्व (6) राजस्थान विधानसभा (1) राजस्थान: एक सिंहावलोकन (4) राजस्थानी कविता एवं संगीत (6) राजस्थानी संगीत लिरिक्स (RAJASTHANI SONGS LYRICS) (17) वस्त्र परिधान एवं आभूषण (2) विकासकारी योजनाए (9) विज्ञान (1) विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी (2) वीणा राजस्थानी गीत (15) संत सम्प्रदाय (2) सामान्यज्ञान (2) साहित्य (3)

PLEASE ENTER YOUR EMAIL FOR LATEST UPDATES

इस ब्लॉग की नई पोस्टें अपने ईमेल में प्राप्त करने हेतु अपना ईमेल पता नीचे भरें:

पता भरने के बाद आपके ईमेल मे प्राप्त लिंक से इसे वेरिफाई अवश्य करे।