Skip to main content

राजस्थान के प्रमुख अनुसंधान केन्द्रो के नाम

1. राष्ट्रीय सरसों अनुसंधान केन्द्र - सेवर जिला भरतपुर
2. केन्द्रीय सूखा क्षेत्र अनुसंधान संस्थान - CAZRI- जोधपुर
3. केन्द्रीय भेड़ एवं ऊन अनुसंधान संस्थान - अविकानगर जिला टौंक
4. केन्द्रीय ऊँट अनुसंधान संस्थान - जोहड़बीड़, बीकानेर
5. अखिल भारतीय खजूर अनुसंधान केन्द्र - बीकानेर
6. राष्ट्रीय मरुबागवानी अनुसंधान केन्द्र - बीकानेर
7. राष्ट्रीय घोड़ा अनुसंधान केन्द्र - बीकानेर
8. सौर वेधशाला - उदयपुर
9. राजस्थान कृषि विपणन अनुसंधान संस्थान - जयपुर
10. केन्द्रीय पशुधन प्रजनन फार्म - सूरतगढ़ जिला गंगानगर
11. राजस्थान राजस्व अनुसंधान एवं प्रशिक्षण संस्थान - अजमेर
12. राजस्थान राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण संस्थान - उदयपुर
13. सुदूर संवेदन केन्द्र - जोधपुर
14. माणिक्यलाल वर्मा आदिम जाति शोध एवं सर्वेक्षण संस्थान - उदयपुर
15. राष्ट्रीय मसाला बीज अनुसंधान केन्द्र - अजमेर
16. राष्ट्रीय आयुर्वेद शोध संस्थान - जयपुर
17. केन्द्रीय इलेक्ट्रॉनिक इंजीनियरिंग शोध संस्थान (सीरी) - पिलानी
18. अरबी फारसी शोध संस्थान - टौंक
19. राजकीय शूकर फार्म - अलवर
20. केन्द्रीय बकरी अनुसंधान संस्थान - अविकानगर, मालपुरा टौंक
21. बकरी विकास एवं चारा उत्पादन परियोजना, स्विट्जरलैंड के सहयोग से - रामसर, अजमेर
22. केन्द्रीय ऊन विकास बोर्ड - जोधपुर
23. राज्य स्तरीय भेंस प्रजनन केन्द्र - वल्लभनगर उदयपुर
24. भेड़ रोग अनुसंधान प्रयोगशाला - जोधपुर
25. भेड़ एवं ऊन प्रशिक्षण संस्थान - जयपुर
26. शुष्क वन अनुसंधान संस्थान, जोधपुर { ARID FOREST RESEARCH INSTITUTE (AFRI)} ORGANISATION
प्रमुख गौवंश नस्ल अनुसंधान केन्द्र-
1. गिर - डग, झालावाड़
2. जर्सी गाय - बस्सी, जयपुर
3. मेवाती - अलवर
4. थारपारकर - सूरतगढ़, गंगानगर
5. हरियाणवी - कुम्हेर, भरतपुर
6. राठी - नोहर, हनुमानगढ़
7. नागौरी - नागौर
8. थारपारकर - चांदन, जैसलमेर
प्रमुख भेड़ नस्ल अनुसंधान केन्द्र-
1. बाँकलिया - नागौर
2. फतहपुर सीकर
3. चित्तौड़गढ़
4. जयपुर
राज्य के अश्व विकास केन्द्र-
1. बिलाड़ा, जोधपुर
2. सिवाना, बाड़मेर { मालानी घोड़ों के लिए }
3. मनोहरथाना, झालावाड़
4. बाली, पाली
5. जालोर
6. पाली
7. चित्तौड़
8. उदयपुर
9. जयपुर
10. बीकानेर

Comments

Popular posts from this blog

World famous sword of Sirohi-विश्व विख्यात सिरोही की तलवार

सिरोही की तलवार को पहचान दिलाने वाले परिवार में सबसे बुजुर्ग प्यारेलाल के हाथों में आज भी वह हुनर मौजूद है जो पीढ़ी दर पीढ़ी उन्हें मिलता रहा और जिसकी बदौलत सिरोहीं की तलवार को देश दुनिया में पहचान मिली | 62 वर्षीय प्यारेलाल कई सालों से तलवारें बना रहे है , लेकिन फिर भी जब भी मौका मिलता है वे तलवार को ढालने लगते है |आज भी लोहे पर ऐसी सटीक चोट करते है की तलवार की धार वैसी ही जैसी कई सालों पहले रहा करती थी |लोग आज भी उन्हें ढूंढते हुए उस गली तक आ पहुचते हैं जहाँ प्यारेलाल तलवार बनाने का काम  करते हैं |पिता की ढलती उम्र और साथ छोड़ते स्वास्थ्य के कारण अहमदाबाद में रहने वाले बेटे ने भी कई बार कहा की आप मेरे साथ चलिए ,लेकिन वे नहीं माने|कहा की जब तक हिम्मत है ये तलवारे बनाता रहूँगा |गौरतलब है की प्यारेलाल इतिहास  की स्वर्णिम पन्नों में दर्ज सिरोही की प्रसिद्ध तलवारे में माहिर परिवार के आखिरी शिल्पकार है |जो रियासत काल से ही तलवार बनाते आ रहे हैं | इस खासियत की वजह से मिली प्रसिधी   सिरोही तलवार की यह खासियत है की आज के मशीनी युग में भी लोहे को गर्म करके सिर्फ हथौड़े की सहायता से तैय

" पोमचा "- राजस्थान की एक प्रकार की ओढ़नी

"पोमचा" - राजस्थान की एक प्रकार की ओढ़नी राजस्थान में स्त्रियों की ओढ़नियों मे तीन प्रकार की रंगाई होती है- पोमचा, लहरिया और चूंदड़। पोमचा पद्म या कमल से संबद्ध है, अर्थात इसमें कमल के फूल बने होते हैं। यह एक प्रकार की ओढ़नी है।वस्तुतः पोमचा का अर्थ कमल के फूलके अभिप्राय से युक्त ओढ़नी है। यह मुख्यतः दो प्रकार से बनता है- 1. लाल गुलाबी 2. लाल पीला। इसकी जमीन पीली या गुलाबी हो सकती है।इन दोनो ही प्रकारों के पोमचो मेंचारो ओर का किनारा लाल होता है तथा इसमें लाल रंगसे ही गोल फूल बने होते हैं। यह बच्चे के जन्म के अवसर पर पीहर पक्ष की ओरसे बच्चे की मां को दिया जाता है।पुत्र का जन्म होने पर पीला पोमचा तथा पुत्री के जन्म पर लाल पोमचा देने का रिवाज है। पोमचा राजस्थान मेंलोकगीतों का भी विषय है।पुत्र के जन्म के अवसर पर "पीला पोमचा" का उल्लेख गीतों में आता है। एक गीत के बोल इस तरह है-                          "पोमचा" - राजस्थान की एक प्रकार की ओढ़नी " भाभी पाणीड़े गई रे तलाव में, भाभी सुवा तो पंखो बादळ झुकरया जी।      देवरभींजें तो भींजण दो ओदेवर और रंगावे म्हा