Sunday, June 20, 2021

श्री गंगाजलिया (श्री गंगेश्वर) महादेव मंदिर, गांव काछोली आबूराज (shri Gangajaliya Mandir kachholi Aburaj)


श्री गंगाजलिया (श्री गंगेश्वर) महादेव मंदिर, गांव काछोली आबूराज (shri Gangajaliya Mandir kachholi Aburaj)

श्री गंगाजलिया महादेव मंदिर या श्री गंगेश्वर महादेव जी का अतिप्राचीन मंदिर साधु-संतों, साधकों, सिद्धो, तपस्वियों, योगियों, मुनियों और महात्माओं का पसंदीदा तपस्थली रहा है क्योंकि यहाँ साक्षात गंगा मैया महादेव जी का वंदन करती है। यहां अनेक संतों ने भजन किया है ।

श्री गंगाजलिया (श्री गंगेश्वर) महादेव मंदिर


कई संतों की यहां समाधियां है। श्री गेनाराम जी महाराज, श्री जोगाराम जी महाराज आदि संतों की यहां समाधी है। भजन के लिए सर्वथा उपर्युक्त आबूराज का श्री गंगाजलिया महादेव मंदिर श्री मुनि जी महाराज, श्री हनुमान दास जी महाराज ,श्री गैनजी महाराज ,श्री जोगाराम जी महाराज आदि संतो की साधना स्थली रही है ।

श्री गंगाजलिया (श्री गंगेश्वर) महादेव मंदिर रास्ते का दृश्य 


श्री गंगाजलिया या श्री गंगेश्वर महादेव मंदिर आदि अनादि है। अणगोर गुप्तेश्वर महादेव मंदिर के महंत श्री महादेव गिरी जी ने बताया कि यहां अनेक अलोप साधुओं का वास है और वे दिन-रात आत्म कल्याण और जगत कल्याण के लिए यहां भजन करते हैं।

जब इस मंदिर में काछोली गांव से निकलते हैं तो हरे भरे क्षेत्र और कई बरसाती नालों को पार करते हुए इस मंदिर में पहुंचते है । इस मंदिर के आसपास झरनों और बरसाती नालों से यह क्षेत्र बेहद रमणीक है। यहां जहां भक्तों का आना-जाना रहता है वहीं पर्यटन की दृष्टि से भी यह स्थान पर्यटकों का आकर्षण का केंद्र है। अनेक प्रकृति प्रेमी लोग यहां घूमने की दृष्टि से भी आते हैं ।

श्री गंगाजलिया (श्री गंगेश्वर) महादेव मंदिर के झरने 


आबु के महान संत श्री गेन जी महाराज ने आज से 50 साल पहले अपना नश्वर शरीर काछोली गांव में शाम को 5:00 बजे छोड़ा लेकिन यहां उन्होंने भजन किया था इसलिए यहां इनकी समाधि है । संत श्री जोगाराम जी महाराज की समाधि है और काछोली गांव की श्री गजरा माई जो श्री गेन जी महाराज की अनन्य भक्त थी या उनकी कृपा पात्र थी जिन्होंने लंबे समय तक साधना की उनकी भी यहां प्रतिमा है।

श्री गंगाजलिया (श्री गंगेश्वर) महादेव मंदिर कि पहाड़ी 


यहां गुफा के अंदर अतिप्राचीन और चमत्कारी स्वयंभू शिवलिंग है है । बड़ी बड़ी शिलाओं के बीच में यहां कई प्राकृतिक जलकुंड हैं जिनमें पानी कभी नहीं सूखता ।श्री गंगाजलिया महादेव मंदिर आबू राज का वो तीर्थ है जहां पहुंचने मात्र से मन को शांति मिलती है। श्री गंगाजलिया महादेव मंदिर पहुंचने के लिए स्वरूपगंज से वाया काछोली होते हुए इस मंदिर में पहुंचते हैं ।

Share:

0 comments:

Post a Comment

कृपया अपना कमेंट एवं आवश्यक सुझाव यहाँ देवें।धन्यवाद

SEARCH MORE HERE

Labels

CHITTAURGARH FORT RAJASTHAN (1) Competitive exam (1) Current Gk (1) Exam Syllabus (1) HISTORY (3) NPS (1) RAJASTHAN ALL DISTRICT TOUR (1) Rajasthan current gk (1) Rajasthan G.K. Question Answer (1) Rajasthan Gk (5) Rajasthan tourism (1) RSCIT प्रश्न बैंक (3) World geography (2) उद्योग एवं व्यापार (2) कम्प्यूटर ज्ञान (2) किसान आन्दोलन (1) जनकल्याणकारी योजनाए (9) परीक्षा मार्गदर्शन प्रश्नोत्तरी (10) पशुधन (5) प्रजामण्डल आन्दोलन (2) भारत का भूगोल (4) भारतीय संविधान (1) भाषा एवं बोलिया (2) माध्यमिक शिक्षा बोर्ड राजस्थान अजमेर (BSER) (1) मारवाड़ी रास्थानी गीत (14) मेरी कलम से (3) राजस्थान का एकीकरण (1) राजस्थान का भूगोल (3) राजस्थान की कला (3) राजस्थान की छतरियाॅ एवं स्मारक (1) राजस्थान की नदियाँ (1) राजस्थान की विरासत (4) राजस्थान के किले (8) राजस्थान के जनजाति आन्दोलन (1) राजस्थान के प्रमुख अनुसंधान केन्द्र (2) राजस्थान के प्रमुख तीर्थ स्थल (13) राजस्थान के प्रमुख दर्शनीय स्थल (4) राजस्थान के मेले एवं तीज त्योहार (7) राजस्थान के राजकीय प्रतीक (2) राजस्थान के रिति रिवाज एवं प्रथाए (1) राजस्थान के लोक देवी-देवता (5) राजस्थान के लोक नृत्य एवं लोक नाट्य (1) राजस्थान के लोक वाद्य यंत्र (4) राजस्थान के शूरवीर क्रान्तिकारी एवं महान व्यक्तित्व (6) राजस्थान विधानसभा (1) राजस्थान: एक सिंहावलोकन (4) राजस्थानी कविता एवं संगीत (6) राजस्थानी संगीत लिरिक्स (RAJASTHANI SONGS LYRICS) (17) वस्त्र परिधान एवं आभूषण (2) विकासकारी योजनाए (9) विज्ञान (1) विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी (2) वीणा राजस्थानी गीत (15) संत सम्प्रदाय (2) सामान्यज्ञान (2) साहित्य (3)

PLEASE ENTER YOUR EMAIL FOR LATEST UPDATES

इस ब्लॉग की नई पोस्टें अपने ईमेल में प्राप्त करने हेतु अपना ईमेल पता नीचे भरें:

पता भरने के बाद आपके ईमेल मे प्राप्त लिंक से इसे वेरिफाई अवश्य करे।

Blog Archive