Thursday, May 26, 2016

Saint sampradaya and folk saints of Rajasthan-राजस्थान के संत सम्प्रदाय एवं लोक संत


राजस्थान के पुरूष लोक सन्त

1. रामस्नेही सम्प्रदाय – इसके प्रवर्तक संत रामचरण दास जी थे। इनका जन्म
टोंक जिले के सोड़ा गाँव में हुआ था। इनके मूल गाँव का नाम बनवेडा था। इनके पिता बखाराम व माता देऊजी थी तथा वैश्य जाति के थे। इन्होंने यहाँ जयपुर महाराज के यहाँ मंत्री पद पर कार्य किया था। इसका मूल रामकिशन था। दातंडा (मेवाड़) के गुरू कृपाराम से दीक्षा ली थी। इनके द्वारा रचित ग्रन्थ अर्ण वाणी है। इनकी मृत्यु शाहपुरा (भीलवाड़ा) में हुई थी। जहाँ इस सम्प्रदाय की मुख्यपीठ है। पूजा स्थल रामद्वारा कहलाते हैं तथा इनके पुजारी गुलाबी की धोती पहनते हैं। ढाढी-मूंछ व सिर पर बाल नहीं रखते है। मूर्तिपुजा नहीं करते थे। इसके 12 प्रधान शिष्य थे जिन्होंने सम्प्रदायक प्रचार व प्रसार किया।
रामस्नेही सम्प्रदाय की अन्य तीन पीठ
1. सिंहथल बीकानेर, प्रवर्तक – हरिदास जी
2. रैण (नागौर) प्रवर्तक – दरियाआब जी (दरियापथ)
3. खेडापा (जोधपुर) प्रवर्तक संतरामदासजी

2. दादू सम्प्रदाय – प्रवर्तक – दादूदयाल, जन्म गुजरात के अहमदाबाद में, शिक्षा – भिक्षा – संत बुद्धाराम से, 19 वर्ष की आयु में राजस्थान में प्रवेश राज्य में सिरोही, कल्याणपुर, अजमेर, सांभर व आमेर में भ्रमण करते हुए नरैणा (नारायण) स्थान पर पहुँचे जहाँ उनकी भेंट अकबर से हुई थी। इसी स्थान पर इनके चरणों का मन्दिर बना हुआ है। कविता के रूप में संकलित इनके ग्रन्थ दादूबाडी तथा दादूदयाल जी दुहा कहे जाते हैं। इनके प्रमुख सिद्धान्त मूर्तिपुजा का विरोध, हिन्दू मुस्लिम एकता शव को न जलाना व दफनाना तथा उसे जंगली जानवरों के लिए खुला छोड़ देना, निर्गुण ब्रह्मा उपासक है। दादूजी के शव को भी भराणा नामक स्थान पर खुला छोड़ दिया गया था। गुरू को बहुत अधिक महत्व देते हैं। तीर्थ यात्राओं को ढकोसला मानते हैं।
(अ) खालसा – नारायण के शिष्य परम्परा को मानने वाले खालसा कहलाते थे। इसके प्रवर्तक गरीबदास जी
थे।
(ब) विखत – घूम-घूम कर दादू जी के उपदेशों को गृहस्थ जीवन तक पहुँचाने
वाले।
(स) उतरादेय – बनवारी दास द्वारा हरियाणा अर्थात् उत्तर दिशा में जाने
के कारण उतरादेय कहलाये।
(द) खारवी – शरीर पर व लम्बी-लम्बी जटाएँ तथा छोटी-छोटी टुकडि़यों में
घूमने वाले।
(य) नागा – सुन्दरदास जी के शिष्य नागा कहलाये।
दादू जी के प्रमुख शिष्य –
1. बखना जी – इनका जन्म नारायणा में हुआ था। ये संगीत विद्या में निपुण थे।
इनको हिन्दू व मुसलमान दोनों मानते थे। इनके पद व दोहे बरचना जी के वाणी में
संकलित थे।
2. रज्जब जी – जाति – पठान, जन्म – सांगानेर, दादू जी से भेंट आमेर में तथा
उनके शिष्य बनकर विवाह ना करने की कसम खाई। दादू की मृत्यु पर अपनी आखें बद कर ली व स्वयं के मरने तक आँखें नहीं खोली। ग्रन्थ वाणी व सर्ववंगी।
3. गरीबदास जी – दादू जी ज्येष्ठ पुत्र तथा उत्तराधिकारी।
4. जगन्नाथ – कायस्थ जाति के, इनके ग्रन्थ वाणी व गुण गंजनाम।
5. सुन्दरदास जी – दौसा में जन्मे, खण्डेलवाल वैश्य जाति के थे। 8 वर्ष की
आयु में दादू जी के शिष्य बने व आजीवन रहे।

3. रामानन्दी सम्प्रदाय – ये वैष्णव सम्प्रदाय से संबंधित है। इसकी प्रथा
पीठ गलता (जयपुर) में है। इसे उतरतोदादरी भी कहा जा। इसके प्रवर्तक रामानन्द जी थे जिनके कबीर शिष्य थे इनके शिष्य कृष्णचन्द प्यहारी
(आमेर) थे जिन्होंने इस क्षेत्र में नाथ सम्प्रदाय के प्रभाव को कम कर रामानुज सम्प्रदाय का प्रभाव स्थापित किया। गलता तीर्थ में राम-सीता को जुगल सरकार के रूप में आर्धुय भाव में पूजा जाता है इसमें राम को सर्गुण रूप से पूजा जाता था।

4. जसनाथी सम्प्रदाय – प्रवर्तक संत जसनाथ जी थे जो महान पर्यावरणविद्ध
भी थे इनका जन्म कतरियासर (बीकानेर) में हुआ। ये नाथ सम्प्रदाय के प्रवर्तक थे। इनका जन्म हमीर जाट के यहाँ हुआ था। इनके अधिकांश अनुयायी जाट जाति के लोग है जो बीकानेर गंगानगर, नागौर, चुरू आदि जिलो में थे। ये गले में काली उन का धाना बांधते हैं। इनके प्रमुख ग्रन्थ सिंह भूदना तथा कोण्डों थे। इन्होंने अपने अनुयायियों को 36 नियमों का पालन करने को कहा था। ये अत्यन्त प्रकृति प्रेमी थे। इनके अनुयायी रात्रि जागरण, अग्नि नृत्य करते हैं तथा निर्गुण भ्रम की उपासना करते थे। जीव हत्या का विरोध, तथा जीव भ्रम एकता का समर्थन किया। कतरियासर में प्रतिवर्ष अश्विन शुक्ल सप्तमी में मेला भरता है।

5. जाम्भो जी सम्प्रदाय – पंवार राजपूत जाम्भो जी का जन्म नागौर जिले के पीपासर गाँव में हुआ था। इनके पिता लोहट व माता हँसा देवी थी। ये बाल्यावस्था में मननशील व कम बोलने वाले थे। अत्यन्त कम आयु में घर त्याग बीकानेर के समराथल चल गये। वही शेष जीवन व्यतीत किया। इनके मुख से बोला गया प्रथम शब्द गुरू मुख धर्म बखानी था। इन्होंने विश्नोई सम्प्रदाय की समराथल में स्थापना की। तथा 29 नियमों की स्थापना की थी। इनमें जीव हत्या, प्रकृति से प्रेम, छूआछूत का विरोध, जीवों में प्रति दया आदि थे इन्होंने प्रमुख का अत्यधिक महत्व दिया तथा तालवा मुकाम नामक स्थान पर अपना शरीर त्यागा। यही पर इनकी समाधि तथा विश्नोई सम्प्रदाय का मन्दिर है। यह आजीवन ब्रह्मचारी रहे। इन्होंने विष्णु नाम पर अत्यधिक जोर दिया तथा जम्भसागर ग्रन्थ की रचना की। इनसे प्रभावित होकर बीकानेर नरेश ने अपने राज्यवृ़क्ष में खेजड़े को स्थान दिया।
इनके नियम – नीला वस्त्र नहीं धारण करना, तम्बाकू, भांग व अफीम का सेवन नहीं करना, हरे वृक्ष नहीं काटना।

6. लालदास जी सम्प्रदाय – प्रवर्तक लालदास जी, जाति – मेव, जन्म धोली धूप, अलवर। पिता – चादलमल, माता सन्दा थी। निर्गुण भ्रम के उपासक, व हिन्दू मुस्लिम एकता पर जोर। मृत्यु नगला (भरतपुर) में हुई। इनका शिष्य
निरंकारी होना चाहिए तथा उसे काला मुँह करके गधे पर बिठाकर पूरे समाज
में घुमाया जाता है तथा उसके बाद मीठा वाणी बोलने के लिए शरबत मिलाया जाता है। लालदास जी का प्रमुख ग्रन्थ वाणी कहलाता है। इन्हें शेरपुर (रामगढ़) गाँव में समाधि दी गई थी। प्रतिवर्ष अश्विन शुक्ल ग्यारह व माघ शुक्ल पूर्णिमा को इनके समाधि स्थल पर मेला भरता है। इनके अनुयायी मेव जाति में विवाह करते हैं।

7. रामदेव जी – नाथ सम्प्रदाय को महाराज की अनुग्रह से इनका जीवन वैभवपूर्ण होता था और राजव्यवस्था में प्रभाव होता है।
8.निम्बार्क  सम्प्रदाय -उपनाम – हंस, सनकादिक, नारद। प्रवर्तक – निम्बार्काचार्य। उपासना – राधाकृष्ण के युगल स्वरूप की। निम्बार्काचार्य के बचपन का नाम – भास्कर तेलगंन ब्राह्मण थे, जन्म आन्ध्रप्रदेश भारत में मुख्य पीठ – वृन्दावन,
राजस्थान में मुख्य पीठ – सलेमाबाद अजमेर। अन्य पीठ – उदयपुर, जयपुर।
सलेमाबाद पीठ की स्थापना पशुराम देवाचार्य ठिठारिया (सीकर) , इनके अनुयायी तुलसी की लकड़ी की कंठी तथा आकार तिलक लगाते हैं।

9. गौण्डिय सम्प्रदाय – प्रवर्तक चैतन्य महाप्रभु, जन्म – पश्चिम बंगाल प्रधान पीठ – राधेगोविन्द मन्दिर (जयपुर), चार कृष्ण प्रतिमाएँ पूज्य हैं (1) जीव गोस्वामी – राधागोविन्द (जयपुर) (2) लोकनाथ स्वामी – राधादामोदर (जयपुर) (3) मधुपण्डित – गोपीनाथ (जयपुर) (4) सनातन गोस्वामी – मदनमोहन (करौली)
10. वैष्णव सम्प्रदाय – विष्णु के उपासक, प्रधान गद्दी – नाथद्वारा, कोटा,
रामानुज, रामानन्दी, निम्बार्क, वल्लभ सम्प्रदायों का उपसम्प्रदाय है तथा अवतारवाद में विश्वास करता है।

11. निरंजन सम्प्रदाय – प्रवर्तक हरिदास निरंजनी जम्न – कापडोद, नागौर, सांखला राजपूत थे। प्रमुख पीठ – गाडा (नागौर)। डकैती को छोड़कर भक्ति
मार्ग को अपनाया। राजस्थान के वाल्मिकी। इनके शिष्य घर बारी व विहंग। प्रमुख ग्रन्थ भक्त, विरदावली, भृर्तहरि संवाद, साखी। उदयपुर घराना शैव मत को मानना प्रमुख
12. परनामी सम्प्रदाय – प्रवर्तक प्राणनाथ जी। जन्म – जामनगर, गुजरात। प्रधान पीठ – पन्ना, मध्यप्रदेश में, प्रमुख ग्रन्थ – कुलजनम स्वरूप। राजस्थान में प्रमुख मन्दिर आदर्श नगर, जयपुर में है। मुख्य आराध्य देव कृष्ण थे।

13. वल्लभ सम्प्रदाय – इसके प्रवर्तक वल्लभ आचार्य थे। जन्म चंपारन, मध्यप्रदेश में। उपागम पुष्टिमार्ग, उपासना कृष्ण, बालस्वरूप, गोवर्धन पर्वत पर श्रीनाथ जी मन्दिर निर्माण करवाया। जोधपुर के महाराज जसवन्त सिंह प्रथम के काल में कन्दमखण्डी ( ) में श्रीनाथ जी की मूर्ति स्थापित की। दामोदर पुजारी
द्वारा। औरंगजेब के आक्रमण के समय श्रीनाथ जी मन्दिर मूर्ति लेकर मेवाड़ के नाथद्वारा में ठहरा। तब से यह वल्लभ सम्प्रदाय का प्रधान केन्द्र बन गया।

14. नाथ सम्प्रदाय – प्रवर्तक नाथ मुनि, वैष्णव व शैव सम्प्रदाय का संगम। चार
प्रमुख गुरू मतसेन्द्र नाथ, गौरखनाथ, जालन्धरनाथ, कन्नीपाव। गौरखनाथ ने इसमें हठ योग प्रारम्भ। प्रधान मन्दिर/ पीठ – महामन्दिर (जोधपुर)। इसकी तीन शाखाएँ है – (1) जोगी – योग क्रिया द्वारा आकाश में उड़ना, पानी पर चलना आदि। (2) मसानी जोगी – यह चिडि़यानाथ के शिष्य थे। इन्हें जोधपुर महाराज द्वारा विशेष अनुदान प्राप्त होता था। इसलिए इनको तात्रिक क्रियाएँ करने के लिए शवों के आधे कफन का अधिकार प्राप्त हुआ। इनका गुरू आसन प्लासनी जोधपुर। (3) कलाबेलिया जोगी – यह कानीपाव के शिष्य है तथा साँप – बिच्छुओं के जहर को उतारना का काम करते हैं। कालबेलिया कहलाये।

15. सन्त पीपा – इनका जन्म गागरोन नरेश कङावा राव खीची (चौहान)  के घर हुआ। मूल नाम – प्रताप सिंह। यह गागराने की खींची चौहान शासक थे। रामानन्द के शिष्य। क्षत्रिय दर्जी समाज के आराध्य देव। समदङी बाड़मेर में पीपाजी का भव्य  मन्दिर है। संत पीपा जी कुछ समय टोडाग्राम (टोंक) में भी रहे  जहाँ पीपा जी की  गुफा है ।इनके अन्य मन्दिर मसूरिया- (जोधपुर व गागरोन)
16. संत धन्ना – इनका जन्म धुवन (टोंक) में हुआ। शिष्य रहे रामानन्द के। राजस्थान के भक्ति आन्दोलन का श्री गणेश किया।
17. संतमावसी/भावजी – जन्म – साँवला (डूंगरपुर) बणेश्वर धामें संस्थापक
श्री कृष्ण के निष्कंलग के अवतार, वाणी – चैपड़ा, पुत्रवधु जनकुमारी द्वारा बणेश्वर में सवधर्म समन्वयधारी मंदिर की स्थापना करवायी गयी।
19. संत चरणदास – जन्म डेरा मेवात, चरणदासी सम्प्रदाय के प्रवर्तक मेला – बंसत पंचमी घर दिल्ली में, प्रमुख ग्रन्थ – भक्तिसागर भ्रमचरित, भ्रमज्ञानसागर।
इनके 52 शिष्य थे।

20. भक्त कवि दुर्लभ – जन्म – बांगड क्षेत्र में, कृष्ण भक्ति के उपदेशक, राजस्थान के नृसिंह रहे हैं।
21. संत रेदास/रविदास – कबीर के समकालीन, जन्म – बनास रामानन्द के
शिष्य। वाणी – रेदास की पर्ची, राजस्थान में चित्तौड़गढ़ में मीरा की छतरी के सामने इनकी छतरी है।
22. बालनन्दचार्य – बचपन का नाम – बलवन्त शर्मा गौड, गुरू – बिरजानन्द
महाराज झून्झूनु के लौहार मल तीर्थ में मालकेतु पर्वत पर हनुमान जी की आराधना की तथा पीठ की स्थापना कर रघुनाथ जी का मन्दिर बनवाया। मुस्लिमों से धर्म की रक्षा हेतु साधुओं का सैन्य संगठन लश्कर (लश्करी संत) बनाया।
Share:

0 comments:

Post a Comment

कृपया अपना कमेंट एवं आवश्यक सुझाव यहाँ देवें।धन्यवाद

SEARCH MORE HERE

Labels

CHITTAURGARH FORT RAJASTHAN (1) Competitive exam (1) Current Gk (1) Exam Syllabus (1) HISTORY (3) NPS (1) RAJASTHAN ALL DISTRICT TOUR (1) Rajasthan current gk (1) Rajasthan G.K. Question Answer (1) Rajasthan Gk (5) Rajasthan tourism (1) RSCIT प्रश्न बैंक (3) World geography (2) उद्योग एवं व्यापार (2) कम्प्यूटर ज्ञान (2) किसान आन्दोलन (1) जनकल्याणकारी योजनाए (9) परीक्षा मार्गदर्शन प्रश्नोत्तरी (10) पशुधन (5) प्रजामण्डल आन्दोलन (2) भारत का भूगोल (4) भारतीय संविधान (1) भाषा एवं बोलिया (2) माध्यमिक शिक्षा बोर्ड राजस्थान अजमेर (BSER) (1) मारवाड़ी रास्थानी गीत (14) मेरी कलम से (3) राजस्थान का एकीकरण (1) राजस्थान का भूगोल (3) राजस्थान की कला (3) राजस्थान की छतरियाॅ एवं स्मारक (1) राजस्थान की नदियाँ (1) राजस्थान की विरासत (4) राजस्थान के किले (8) राजस्थान के जनजाति आन्दोलन (1) राजस्थान के प्रमुख अनुसंधान केन्द्र (2) राजस्थान के प्रमुख तीर्थ स्थल (13) राजस्थान के प्रमुख दर्शनीय स्थल (4) राजस्थान के मेले एवं तीज त्योहार (7) राजस्थान के राजकीय प्रतीक (2) राजस्थान के रिति रिवाज एवं प्रथाए (1) राजस्थान के लोक देवी-देवता (5) राजस्थान के लोक नृत्य एवं लोक नाट्य (1) राजस्थान के लोक वाद्य यंत्र (4) राजस्थान के शूरवीर क्रान्तिकारी एवं महान व्यक्तित्व (6) राजस्थान विधानसभा (1) राजस्थान: एक सिंहावलोकन (4) राजस्थानी कविता एवं संगीत (6) राजस्थानी संगीत लिरिक्स (RAJASTHANI SONGS LYRICS) (17) वस्त्र परिधान एवं आभूषण (2) विकासकारी योजनाए (9) विज्ञान (1) विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी (2) वीणा राजस्थानी गीत (15) संत सम्प्रदाय (2) सामान्यज्ञान (2) साहित्य (3)

PLEASE ENTER YOUR EMAIL FOR LATEST UPDATES

इस ब्लॉग की नई पोस्टें अपने ईमेल में प्राप्त करने हेतु अपना ईमेल पता नीचे भरें:

पता भरने के बाद आपके ईमेल मे प्राप्त लिंक से इसे वेरिफाई अवश्य करे।