रविवार, 28 जून 2015

100 Important Fact OfRajasthan Gk - राजस्थान सामान्य ज्ञान 100 महत्वपूर्ण तथ्य


01. माही बजाज सागर परियोजना
से संबंधित बाँध किस जिले में है -
बाँसवाड़ा
02. राज्य के किस भाग में माही व
उसकी सहायक नदियाँ बहती हैं-
दक्षिण भाग
03. किस नदी की दो मुख्य सहायक
नदियाँ एराव और एरन हैं - माही की
04. माही मुख्यतया किस राज्य की
नदी है - गुजरात की
05. माही नदी का उद्गम स्थल
मध्यप्रदेश के किस जिले में विन्ध्याचल
पर्वत में है - धार जिले के
06. राजस्थान में माही नदी का
प्रवाह क्षेत्र किन जिलों में है-
बाँसवाड़ा, प्रतापगढ़ (चित्तौड़गढ़),
व डूंगरपुर
07. माही प्रवाह क्षेत्र के मैदानों
को क्या कहते हैं - छप्पन मैदान
08. माही किस प्रकार की नदी है -
बरसाती नदी
09. माही का प्रवाह किस ओर है -
अरब सागर की ओर
10. माही नदी किस खाड़ी में
गिरती है- खम्भात की खाड़ी में
11. माही नदी पर बाँध के लिए
प्रसिद्ध लोहारिया गाँव किस
जिले में है- बाँसवाड़ा जिले में
12. राष्ट्रीय जल विकास
प्राधिकरण की किस परियोजना में
राजस्थान की काली सिन्ध-
पार्वती-बनास नदियों को जोड़ा
जाना है- नदी जोड़ो परियोजना में
13. काली सिन्ध-पार्वती-बनास
नदियों को किस बाँध से जोड़ा
जाएगा - राणा प्रताप सागर बाँध
14. कौनसी नदी जयपुर के पास
विराटनगर की पहाड़ियों से
निकलकर पूर्वी भाग में बहती है-
बाणगंगा
15. बाणगंगा भरतपुर व धौलपुर में से
बहती हुई उत्तरप्रदेश के किस स्थान के
समीप यमुना में मिलती है -
फतेहाबाद
16. अलवर में रूपारेल और कोटपुतली
तहसील में साबी-सोता नदियाँ हैं ।
17. अलवर क्षेत्र का ढाल पूर्व की ओर
है ।
18. अलवर क्षेत्र की सभी नदियाँ
पश्चिम से पूर्व की ओर बहती है ।
19. पूर्वी मैदानी प्रदेश की साल भर
बहने वाली प्रमुख नदी चम्बल है ।
20. चम्बल नदी मध्यप्रदेश में
विन्ध्याचल पर्वत के उत्तरी ढाल में
मऊ नामक स्थान से निकलती है ।
21. राजस्थान में चम्बल का प्रवाह
क्षेत्र केवल कोटा, बूँदी और
झालावाड़ जिलों में है ।
22. चम्बल घाटी परियोजना का
राजस्थान व मध्यप्रदेश के आर्थिक
विकास में केन्द्रीय स्थान है ।
23. पार्वती, काली सिन्ध, बामनी
व चन्द्रभागा चम्बल की सहायक
नदियाँ हैं ।
24. चम्बल नदी सवाई माधोपुर व
धौलपुर जिलों में राजस्थान और
मध्यप्रदेश की सीमा बनाती है ।
25. ऊबड़-खाबड़ भूमि, जिसमें रेत के ऊँचे
टीलों के मध्य गहरी घाटियाँ हों,
बीहड़ कहलाती है ।
26. बीहड़ भूमि खेती के लिए सर्वथा
अनुपयुक्त होती है ।
27. सरकार द्वारा कन्दराओं की
भूमि के विकास हेतु बीहड़ क्षेत्र में
वृक्षारोपण करवाया जा रहा है ।
28. चम्बल नदी उत्तरप्रदेश में यमुना में
मिलती है ।
29. ढुन्ड नदी जयपुर जिले से सम्बद्ध है ।
30. बनास व उसकी सहायक नदियाँ
पूर्वी मैदानी प्रदेश में बहती है ।
31. पूर्वी मैदानी प्रदेशों की मुख्य
फसलें गेंहूं, जौ, चना, बाजरा, ज्वार,
सरसों, तिलहन व गन्ना आदि हैं ।
32. बनास नदी का उद्गम स्रोत राजसमन्द जिले में खमनौर की
पहाड़ियों से है ।
33. बनास नदी राजसमन्द,
चित्तौड़गढ़, भीलवाड़ा, अजमेर,
टोंक, बूँदी और सवाई माधोपुर
जिलों में बहती है ।
34. बनास नदी सवाई माधोपुर जिले
में खण्डार के समीप चम्बल नदी में
गिरती है ।
35. बनास नदी को ''वन की आशा''
भी कहा जाता है ।
36. बेढ़च, गम्भीरी, कोठारी, खारी
और मुरेल, बनास की सहायक नदियाँ
हैं ।
37. बनास नदी बरसाती नदी है ।
38. बनास नदी के बहाव क्षेत्र में कुओं
द्वारा सिंचाई की जाती है ।
39. राजस्थान का 3/5 भाग
अरावली के उत्तर-पश्चिम में तथा 2/5
भाग दक्षिण-पूर्व में पड़ता है ।
40. अरावली पर्वत मालाएँ पश्चिम से
आने वाली मिट्टी को रोकती हैं ।
41. अरावली पहाड़ के बाएँ भाग में
उत्तरी-पश्चिमी मरुस्थलीय प्रदेश
तथा दाएँ भाग में मैदानी प्रदेश
पाया जाता है ।
42. वर्षा की दृष्टि से अरावली
पहाड़ का दायाँ भाग, बाएँ भाग
की अपेक्षा ज्यादा समृद्ध है।
43. अरावली पहाड़ का दक्षिण-
पश्चिमी छोर माउण्ट आबू के समीप है

44. अरावली पहाड़ का उत्तरी-
पूर्वी भाग खेतड़ी के पास है ।
45. राजस्थान में अरावली पर्वत का
विस्तार उत्तर-पूर्व से दक्षिण-
पश्चिम की ओर है ।
46. कम ऊँचाई वाले अरावली पर्वत
अजमेर, जयपुर व अलवर जिलों में फैले हैं,
इन जिलों में औसत ऊँचाई 550-670
मीटर तक ।
47. अजमेर में अरावली पर्वत की सबसे
ऊँची पर्वतमाला तारागढ़-870
मीटर , जयपुर में नाहरगढ़ है ।
48. जवाई, लीलरी, जोजरी व सूकड़ी
आदि लूनी की सहायक नदियाँ हैं ।
49. लूनी की सहायक नदियाँ
अरावली की पश्चिमी ढालों से
निकलती है ।
50. अरावली की ढालों पर
विशेषतः मक्का की खेती की
जाती है ।
51. अरावली पर्वत क्षेत्र मुख्यतः
अभ्रक खनन के लिए प्रसिद्ध है ।
52. खेतड़ी का सिंघाना क्षेत्र
ताँबा खनन के लिए जाना जाता है ।
53. खेतड़ी में ताँबा खनन का कार्य
खेतड़ी कॉपर प्रोजेक्ट द्वारा
किया जा रहा है ।
54. जावर जस्ते व सीसे की खानों के
लिए जाना जाता है ।
55. जावर खानों में खनन कार्य भारत
सरकार के उपक्रम हिन्दुस्तान जिंक
लिमिटेड द्वारा किया जा रहा है ।
56. अरावली पर्वतों का सबसे ऊँचा
शिखर गुरुशिखर (1722 मी.) है ।
57. गुरुशिखर माउण्ट आबू (सिरोही)
में स्थित है ।
58. गुरु शिखर के आसपास की अन्य
चोटियाँ सेर (1597 मी.), अचलगढ. (1380 मी.) और दिलवाड़ा के पश्चिम
में तीन अन्य चोटियाँ ।
59. अरावली पर्वतों की कई
समानान्तर श्रेणियाँ सिरोही,
उदयपुर और डूंगरपुर जिलों में फैली हुई हैं ।
60. राजस्थान का राजकीय खेल
बास्केटबाल है ।
61. मध्यवर्ती अरावली पर्वतीय प्रदेश
सम्पूर्ण उदयपुर व डूंगरपुर जिले में फैला
हुआ है, यह सिरोही, पाली,
बाँसवाड़ा, चित्तौड़गढ़ व अजमेर
जिलों के कुछ भागों में फैला हुआ है ।
62. विश्व के प्राचीनतम पर्वतों में से
एक अरावली पर्वत की अधिकतम
ऊँचाई उदयपुर जिले की कुम्भलगढ़ व
गोगुन्दा तहसीलों में पाई जाती है ।
63. उदयपुर जिले में अरावली पर्वत के
अधिकतम ऊँचाई वाले क्षेत्र को
'भोराठ का पठार' कहा जाता है ।
64. थार का मरुस्थल अरावली
पर्वतीय प्रदेश के सुदूर पश्चिमी भाग व
भारत-पाक सीमा को छूते हुए फैला
हुआ है।
65. जैसलमेर, बीकानेर, जोधपुर, बाड़मेर
व मारवाड़ थार के रेगिस्तान के वे
भाग हैं, जहाँ मरुस्थल उग्र है।
66. धरातल और जलवायु के अन्तरों के
आधार पर राजस्थान राज्य को मोटे
तौर पर चार भागों में बाँटा जाता
है,
· उत्तर-पश्चिमी मरुस्थलीय
प्रदेश
· मध्यवर्ती अरावली पर्वतीय
प्रदेश,
· पूर्वी मैदानी प्रदेश व
· दक्षिण-पूर्वी पठारी प्रदेश (हाड़ौती पठार) ।
67. उत्तर-पश्चिमी मरुस्थलीय प्रदेश में
राज्य का लगभग 61 प्रतिशत
रेगिस्तानी भाग सम्मिलित है ।
68. उत्तर-पश्चिमी मरुस्थलीय प्रदेश में
राज्य के 12 जिले- सम्पूर्ण जैसलमेर,
बाड़मेर, जोधपुर, जालौर, बीकानेर,
श्री गंगानगर, हनुमानगढ़, चूरू, झुंझुनूँ,
नागौर और सीकर, तथा सिरोही,
पाली, अजमेर, और जयपुर जिलों के
उत्तरी पश्चिमी भाग शामिल हैं ।
69. उत्तर-पश्चिमी मरुस्थलीय प्रदेश
का पूर्वी भाग ''मारवाड़'' कहलाता
है तथा पश्चिमी भाग ''थार का
रेगिस्तान' ' कहलाता है ।
70. उत्तर-पश्चिमी मरुस्थलीय प्रदेश के
अधिकांश भाग में वर्षा का औसत 20
से 50 सेमी . तथा न्यूनतम 10 सेमी. से
भी कम है ।
71. उत्तर-पश्चिमी मरुस्थलीय प्रदेश
का गर्मियो में उच्चतम तापमान 48o
सेल्सियस तथा सर्दियों में -3o
सेल्सियस तक पहुँच जाता है ।
72. उत्तर-पश्चिमी मरुस्थलीय प्रदेश में
बलुई मिट्टी का अत्यधिक जमाव
पाया जाता है।
73. जैसलमेर, बाड़मेर, जोधपुर और
जालौर जिलों में रेत के स्थाई टीले हैं,
जबकि उत्तरी भागों विशेषतः चूरू,
झुंझुनूँ, सीकर और बीकानेर में अस्थाई
टीले हैं, जो तेज हवाओं के साथ
स्थानांतरित होकर सड़क व रेलमार्ग
में बाधा बनते हैं ।
74. उत्तर-पश्चिमी मरुस्थलीय प्रदेश
भाग में भूमिगत जल की गहराई 20-100
मीटर तक होती है, अतः बैलों अथवा
ऊँटों को कुओं में जोतकर पानी
निकाला जाता है ।
75. उत्तर-पश्चिमी मरुस्थलीय प्रदेश
की एकमात्र नदी लूनी है ।
76. लूनी नदी का उद्गम अजमेर के पास
पुष्कर घाटी के समीप अरावली की
पहाड़ियों मे आनासागर से होता है

77. लूनी नदी पश्चिम मे बहती हुई,
दक्षिण-पश्चिम भाग में 320 किमी.
तक बहकर कच्छ के रण में प्रवेश करती है,
जहाँ इसका पानी फैल जाता है।
78. लूनी बरसाती नदी है ।
79. लूनी नदी का जल दक्षिण बहाव
क्षेत्र में खारा है और पीने व सिंचाई
के अयोग्य है ।
80. अरावली पर्वत के पश्चिम में बहने
वाली लूनी केवल एकमात्र नदी है ।
81. उत्तर-पश्चिमी मरुस्थलीय प्रदेश
की मुख्य फसल बाजरा, मूँग, मोठ
आदि थोड़ी वर्षा से पकने वाली हैं ।
82. उत्तर-पश्चिमी मरुस्थलीय प्रदेश
का मुख्य धंधा पशु-पालन बन गया है ।
83. उत्तर-पश्चिमी मरुस्थलीय प्रदेश में
राठी और थारपारकर नस्ल की गायें,
जो कठिन जलवायु की
परिस्थितियों के अनुकूल हैं, पाई
जाती हैं ।
84. मरुस्थलीय प्रदेश में कुछ स्थानों पर
छोटी-छोटी पहाड़ियाँ भी
होती हैं ।
85. मरुस्थलीय प्रदेश मे जैसलमेर के समीप
पीला पत्थर निकाला जाता है ।
86. मरुस्थलीय प्रदेश मे जोधपुर के पास
लाल रंग का इमारती बलुआ पत्थर
निकाला जाता है ।
87. मरुस्थलीय प्रदेश मे डेगाना (नागौर) भारत का एकमात्र टंगस्टन
उत्पादक क्षेत्र है ।
88. मरुस्थलीय प्रदेश मे टंगस्टन के
अलावा जिप्सम और रॉक फास्फेट
खनिजों के विशाल भण्डार हैं ।
89. काली सिन्ध व पार्वती
नदियों डीप चैनल के जरिए बाँध
बनाकर भीलवाड़ा में जहाजपुर के
पास लाकर बनास से जोड़ा जाएगा

90. फतेहाबाद (उ.प्र.) के निकट
बाणगंगा नदी यमुना में गिरती है ।
91. उत्तर प्रदेश में यमुना में गिरने
वाली राज्य की दूसरी मुख्य नदी
चम्बल है।
92. खमनौर की पहाड़ियाँ उदयपुर
जिले में हैं ।
93. खण्डार नामक स्थल सवाई
माधोपुर जिले में है ।
94. खम्भात की खाड़ी में गिरने
वाली नदी बनास है ।
95. राज्य की अंतरराष्ट्रीय सीमा
पर 04 जिले (बाड़मेर, जैसलमेर, बीकानेर
व श्री गंगानगर) स्थित हैं ।
96. राज्य की अंतरराज्यीय सीमा
05 राज्यों (पंजाब, गुजरात,
हरियाणा, मध्यप्रदेश, उत्तरप्रदेश) को
छूती है ।
97. हरियाणा राजस्थान की उत्तर-
पूर्वी सीमा पर स्थित है ।
98. उत्तरी सीमा पर पंजाब स्थित है

99. पूर्वी सीमा पर उत्तरप्रदेश स्थित
है ।
100. राजस्थान भारतीय उपमहाद्वीप के पश्चिम भाग में स्थित है ।
Share:

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें

कृपया अपना कमेंट एवं आवश्यक सुझाव यहाँ देवें।धन्यवाद

SEARCH MORE HERE

Labels

उद्योग एवं व्यापार (2) कम्प्यूटर ज्ञान (2) किसान आन्दोलन (1) जनकल्याणकारी योजनाए (9) परिवहन (2) परीक्षा मार्गदर्शन प्रश्नोत्तरी (10) पशुधन (5) प्रजामण्डल आन्दोलन (2) भारत का भूगोल (4) भारतीय संविधान (1) भाषा एवं बोलिया (2) माध्यमिक शिक्षा बोर्ड राजस्थान अजमेर (BSER) (1) मारवाड़ी रास्थानी गीत (14) मेरी कलम से (3) राजस्थान का एकीकरण (1) राजस्थान का भूगोल (4) राजस्थान की कला (3) राजस्थान की छतरियाॅ एवं स्मारक (1) राजस्थान की नदियाँ (1) राजस्थान की विरासत (4) राजस्थान के किले (8) राजस्थान के जनजाति आन्दोलन (1) राजस्थान के प्रमुख अनुसंधान केन्द्र (2) राजस्थान के प्रमुख तीर्थ स्थल (14) राजस्थान के प्रमुख दर्शनीय स्थल (4) राजस्थान के मेले एवं तीज त्योहार (7) राजस्थान के राजकीय प्रतीक (2) राजस्थान के रिति रिवाज एवं प्रथाए (1) राजस्थान के लोक देवी-देवता (5) राजस्थान के लोक नृत्य एवं लोक नाट्य (1) राजस्थान के लोक वाद्य यंत्र (5) राजस्थान के शूरवीर क्रान्तिकारी एवं महान व्यक्तित्व (6) राजस्थान विधानसभा (1) राजस्थान: एक सिंहावलोकन (4) राजस्थानी कविता एवं संगीत (6) राजस्थानी संगीत लिरिक्स (RAJASTHANI SONGS LYRICS) (17) वस्त्र परिधान एवं आभूषण (2) विकासकारी योजनाए (9) विज्ञान (1) विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी (2) वीणा राजस्थानी गीत (15) संत सम्प्रदाय (2) सामान्यज्ञान (2) साहित्य (3) CHITTAURGARH FORT RAJASTHAN (1) Competitive exam (1) Current Gk (1) Exam Syllabus (1) HISTORY (3) NPS (1) RAJASTHAN ALL DISTRICT TOUR (1) Rajasthan current gk (1) Rajasthan G.K. Question Answer (1) Rajasthan Gk (6) Rajasthan tourism (1) RSCIT प्रश्न बैंक (3) World geography (2)

PLEASE ENTER YOUR EMAIL FOR LATEST UPDATES

इस ब्लॉग की नई पोस्टें अपने ईमेल में प्राप्त करने हेतु अपना ईमेल पता नीचे भरें:

पता भरने के बाद आपके ईमेल मे प्राप्त लिंक से इसे वेरिफाई अवश्य करे।

ब्लॉग आर्काइव